देश भक्ति दो लाइन की शायरी | Army desh bhakti shayari in hindi

इस लेख में आप पढ़ेंगे Army desh bhakti shayari in hindi, देश भक्ति दो लाइन की शायरी, कश्मीर पर देश भक्ति शायरी, देश भक्ति शायरी 26 जनवरी और 15 अगस्त प
दोस्तों, आज हम आपके लिए लाए हैं देशभक्ति भरी Army desh bhakti shayari in hindi, जिसे आप आने वाले कई मौकों पर साझा कर सकते है जैसे Independent day, Republic day, Indian army day और यदी आप हमारे शाहिद जवानों के लिए कुछ प्रस्तुत करना चाहते है तो इस लेख में आपको शहीद देश भक्ति शायरी भी मिल जाएगी।

कुछ मौके ऐसे होते है जब हम अपने अंदर छुपी देश भक्ति को दिखा सकते है, लेकीन काफी लोगो के मन में ये सवाल आता है की अपने देश के प्रति प्यार और लगन को हम कैसे जाहिर करे लेकीन चिंता की कोई बात नहीं, यदी आप भी कुछ देश के प्रति लिखना चाहते है तो आप इस लेख में मौजुद देश भक्ति पर शायरी इस्तेमाल कर सकते हैं।

बेहतरीन देश भक्ति शायरी को प्राप्त करने के लिए और इसे शेयर करने के लिए जन्मदिन लेख को अंत तक जरूर पढ़े।

Army desh bhakti shayari in hindi

देश भक्ति दो लाइन की शायरी

Kasam hai is mitti ki hum tera sir na kabhi zukne denge
Chahe kat jaye sir hamari bharat maa par aanch kabhi na aane denge.

कसम है इस मिट्टी की हम तेरा सिर ना कभी झुकने देंगे
चाहें कट जाए गर्दन हमारी भारत मां पर आंच कभी ना आने देंगे।
#

Tiranga hamari jaan hai desh ki hamare shan hai
Is se pehchan hai hamari ye hamara abhiman hai.

तिरंगा हमारी जान है देश की हमारे शान है
इस से पहचाना है हमारी ये हमारा अभिमान है।
#

Ye bhumi hai veero ki yaha inkalab sunai deta hai
Is pavitra bhumi par har dil me bharat dikhai deta hai.

ये भूमि है वीरो की यह इंकलाब सुनाई देता है
 इस पवित्र भूमि पर हर दिल में भारत दिखाई देता है।
#
 
Na jhuke sir kisi ke aage ye bhumi hai shahid jawano ki
Lad kar li hai azadi hamane ye bhumi hai balidano ki.

ना झुके सिर किसी के आगे ये भूमि है शहीद जवानो की
 लड़ कर ली है आज़ादी हमने ये भूमि है बालिदानों की।
#

देश भक्ति पर शायरी हिंदी में

Dil me nafrat ko na palo yaro ye sab rang ek hai
Hum sab hai is maa ke bete sab bharat maa ke laal hai.

दिल में नफ़रत को ना पालो यारो ये सब रंग एक है
हम सब है माँ के बेटे सब भारत माँ के लाल है।
#

Jamana hamse puche kya tumhari kahani hai
Hamari aan baan shan hai tiranga aur hum hindustani hai.

जमाना हमसे पूछे क्या तुम्हारी कहानी है
हमारी आन बान शान है तिरंगा और हम हिंदुस्तानी है।
#

Yuhi nahi mili azadi hamare veero ne apni jaan gawai hai
Bahaya hai apna lahu is dharti par tabhi azadi hame mil payi hai.

यूही नहीं मिली आजादी हमारे वीरो ने अपनी जान गवाई है
बहाया है अपना लहू इस धरती पर तभी आजादी हमें मिल पाई है।
#

Azadi ka parcham hum hawa mein laharayenge
Sir kata lenge hum lekin is dharti par aanch na aane denge.

आजादी का परचम हम हवा में लहराएंगे 
सर कटा लेंगे हम लेकीन इस धरती पर आंच ना आने देंगे।
#

Shahidon ki kurbaniyon ko hum vyarth na jane denge
Jaan dekar hum apne tirange ko ucha lehrayege.

शहीदों की कुर्बानियों को हम व्यर्थ ना जाने देंगे
जान देकर हम अपने तिरंगे को ऊंचा उठाएंगे।
#

कश्मीर पर देश भक्ति शायरी

Kashmir ko apni jahangir samajhne walo tumhari hum nasal mita denge 
Jo dalega hamre kashmir par buri nazar hum usko uski aukat dikha denge.

कश्मीर को अपनी जहांगीर समझने वालो तुम्हारी हम नसल मिटा देंगे
जो डालेगा हमारे कश्मीर पर बुरी नजर हम उसे उसकी औकात दिखा देंगे।
#

Ye kashmir hai bharat desh ki shan kisi ke baap ki jageer nahi
Kashmir ko kehte ho tum apna aur ise dekhne ki tumhari aukat nahi.

ये कश्मीर है भारत देश की शान किसी के बाप की जहागीर नहीं
कश्मीर को कहते हो तुम अपना और इसे देखने की तुम्हारी औकत नहीं।
#

Buzdil ki tarah karte ho kashmir par hamla napunsak ho kya
Kyo nahi karte ho sine pe war hamare bharat maa ke veero se darte ho kya.

बुज़दिल की तरह करते हो कश्मीर पर हमला नुपुंसक हो क्या
क्यों नहीं करते हो सिने पे वार हमारे भारत मां के वीरो से डरते हो क्या।
#

Kashmir ko pane ka khwab tera khwab hi reh jayega.
Tu kar kitni bhi sajishe ise pane ki tu hath malate hi reh jayega.

कश्मीर को पाने का ख्वाब तेरा ख्वाब ही रह जाएगा।
तू कर कितनी भी साजिशे इसे पाने की पाए की तू हाथ मलते ही रह जाएगा।
#

Teri kashmir ko pane ki napak koshishe kabhi safal na ho payegi
Ghar me ghuskar marenge hum tumhe aur teri sath puste yaad rakhegi.

तेरी कश्मीर को पाने की नापाक कोशीशे कभी सफल ना हो पायेगी
घर में घुसकर मारेंगे हम तुम्हें और तेरी साथ पुस्ते याद रखेंगी।
#

देश भक्ति शायरी 26 जनवरी पर

Mere desh ka saman hai mujhe mai is mitti ka gungan gata hu
Mujhe dar nahi apni maut ka mai apni dharti maa se itna pyar karta hu.

मेरे देश का समान है मुझे मैं मिट्टी का गुनगान गाता हूं
मुझे डर नहीं अपनी मौत का मैं अपनी धरती मां से इतना प्यार करता हूं।
#

Lipat kar tirange me veer jawano ke badan aaj bhi aate hai
Unhe dar nahi apni maut ka ye watan ki sima par khade nazar aaj bhi aate hai.

लिपट कर तिरंगे में वीर जवानो के बदन आज भी आते हैं
उन्हें डर नहीं अपनी मौत का ये वतन की सीमा पर खड़े नज़र आज भी आते हैं।
#

Bandh kar kafan sarhad paar mere veer jawan date rehte hai
Koi dekhe buri nazar se meri bharat mata ki aur ye unki ankh noch lete hai.

बांध कर कफन सरहद पर मेरे वीर जवान डटे रहते हैं
कोई देखे बुरी नजर से मेरी भारत माता की और ये उनकी आंख नोछ लेते हैं।
#

Desh bhakti ki dil me agan bhar lo
Mere shahid bhaiyo ke sajde me naman kar lo.

देश भक्ति की दिल में अगन भर लो
मेरे शाहिद भाईयों के सजदे में नमन कर लो।
#

Mere veer bhai dil me junun ankho me desh bhakti ki chamak rakhte hai
Koi chot na pahucha paye meri maa ko sarahad par din raat ankh khuli rakhte hai.

मेरे वीर भाई दिल में जूनून अंखो में देश भक्ति की चमक रखते हैं
कोई चोट ना पहुचा पाए मेरी मां को सरहद पर दिन रात आंख खुली रहते हैं।
#

देश भक्ति शायरी 15 अगस्त पर

Yuhi nahi mili azadi kai desh bhakto ne sar kataya hai
Kachi umro me azadi ke liye fasi ke fande ko gale lagaya hai.

यूही नहीं मिली आजादी कई देश भक्तो ने सर कटाया है
कच्ची उमरो में आजादी के लिए फांसी के फंदे को गले लगाया है।
#

Lade wo kisi sher ki tarah thhada khun bhi jwala bana.
Marte_marte bhi kai mar giraye tabhi ye desh azad hua.

लड़े वो किसी शेर की तरह ठंडा खून भी ज्वाला बना।
मरते_मरते भी कई मार गिराये तभी ये देश आजाद हुआ।
#

Azadi ke is khubsurat parv ko hum dhum dham se manayenge
Shahid huye un veer jawano ki yaad me hum apna sar jhukayenge.

आज़ादी के इस ख़ूबसूरत पर्व को हम धूम धाम से मनाएंगे
शाहिद हुए उन वीर जवानों की याद में हम अपना सर झुकाएंगे।
#

Apne ghar se dur reh kar watan ki hifazat karna aasan nahi
Sarhad par khade reh kar desh ki hifazat karna koi bacho ka khel nahi.

अपने घर से दूर रह कर वतन की हिफाजत करना आसान नहीं
सरहद पर खड़े रह कर देश की हिफाजत करना कोई बच्चो का खेल नहीं।
#

Mera bharat desh mahan hai meri basi usme jaan hai
Bharat mata ki raksha me to meri jaan bhi kurban hai.

मेरा भारत देश महान है मेरी बसी उसमें जान है
भारत माता की रक्षा में तो मेरी जान भी कुर्बान है।
#

कुछ आखरी बाते…..🖋️

दोस्तों, यदि आपको Army desh bhakti shayari in hindi पसंद आए, तो आपकी प्रशंसा दर्शाने के लिए और अन्य विषय पर जानकारी प्राप्त करने के लिए हमे कॉमेंट जरूर करें, साथ ही आपके द्वारा कोई अन्य सुझाव हो तो हमें जरूर बताएं ताकी हम आपके लिए बेहतरीन लेख प्रस्तुत कर सके।

🙏 धन्यवाद 🙏

एक टिप्पणी भेजें

Please Do Not Enter Any Spam Links In The Comment Box